Green Gold Business Idea: कम पैसों में शुरू करे इस 'हरे सोने' का कारोबार, होगी जबरदस्त मुनाफा

Green Gold Business Idea: कम पैसों में शुरू करे इस ‘हरे सोने’ का कारोबार, होगी जबरदस्त मुनाफा

Green Gold Business Idea: अगर आप भी कुछ करने का सोच रहे हैं और अपना कुछ बिजनेस शुरू करना चाहते हैं, तो आप सही जगह पर आए हैं क्योंकि आज हम आपके साथ यहां ऐसे ही एक जबरदस्त बिजनेस आइडिया को शेयर करने वाले हैं।

अगर आपकी जॉब चली गई हो या फिर आप नौजवान युवा है जो नौकरी की तलाश कर रहे हैं तो यह बिजनेस आप जरूर कर सकते हैं, जी हां हम बात कर रहे हैं बांस की खेती के बारे में, आपको बता दें मध्य प्रदेश सरकार बांस की खेती को बढ़ावा दे रही है। तो आइए जानते हैं इस बारे में अधिक।

Table of Contents

Green Gold Business Idea

Green Gold Business Idea

विशेषज्ञों का कहना है कि जो किसान बांस की खेती कर रहे हैं वह काफी अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं, और बांस एक ‘हरा सोना’ है जो अधिक मुनाफे वाली फसलों में से एक है। बांस (Bamboo) की फसल की विशेषता यह है कि यह किसी भी मौसम में खराब नहीं होती है और इसे देखभाल की आवश्यकता भी नहीं होती है।

आपकी जानकारी के लिए बता दे मध्य प्रदेश के प्रमुख सचिव ने कहा कि कीट और मौसम की स्थिति से अन्य फसलों को नुकसान होने का डर लगा रहता है, लेकिन बांस की खेती से आपको किसी प्रकार की डरने की जरूरत नहीं होती है।  

बांस की खेती के लिए आपको बस जगह की जरूरत होगी और यह बिजनेस कम पैसों में (Minimum Investment) शुरू किया जा सकता है, बांस (Bamboo) की खेती के लिए लोगों में अब ज्यादा जागरूकता नहीं फैली है मगर इस बिजनेस में काफी फायदा है और इसलिए मध्य प्रदेश की सरकार बांस की खेती करने वालों को बढ़ावा दे रही है। 

बांस की खेती करने पर किसानों को लंबी अवधि तक इसका लाभ मिल सकता है। बांस की डिमांड अक्सर पड़ती है लोगो को चाहे किसी घर की मरम्मत हो या सीमेंट की खांबो, या बाढ़ (Flood) में टंगे बनाना है या फिर बांस के घर बनाने हों तो बांस की ज़रूरत पड़ती है, बांस को और भी कई प्रकार कामों में इस्तेमाल किया जाता है।

आपको बता दे जो भी यह बिजनेस शुरू करना चाहता है, वह एक हेक्टर में 625 पौधे लगा सकता है और वह सरकारी नर्सरी से बांस के पौधे को खरीद सकता है। इससे पहले मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा था कि कृषि के शस्त्र में बांस मिशन लागू कर दिया जाएगा कृषिओ को लाभदायक बनाने के लिए बांस की खेती फसल विविधीकरण में भी अहम भूमिका निभाएगी। 

मध्य प्रदेश सरकार ने अधिकारियों से भी कहा है कि वह किसानों को प्रेरित करें बांस की खेती के लिए, जिससे उनको अधिक मुनाफा भी मिलेगा। 

बांस मिशन का लक्ष (Bamboo Mission Aim)

Bamboos

बांस मिशन का उद्देश्य देश के सामाजिक-आर्थिक विकास के लिए पर्यावरण के अनुकूल, बहुउद्देश्यीय और नवीकरणीय संसाधन के रूप में बांस की क्षमता का दोहन करना है।

भारत में बांस का एक विशाल संसाधन है, जिसका अनुमान लगभग 12 मिलियन हेक्टेयर है, जिसकी वार्षिक वृद्धि 20 मिलियन टन है। हालाँकि, इस प्रचुर संसाधन का काफी हद तक कम उपयोग किया गया है।

राष्ट्रीय बांस मिशन (एनबीएम) की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में उपलब्ध कुल बांस का केवल 6 प्रतिशत ही उपयोग किया जाता है, जबकि शेष अप्रयुक्त या कम उपयोग में आता है।

बांस मिशन का उद्देश्य ग्रामीण अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए उपयुक्त प्रौद्योगिकियों और संस्थागत व्यवस्था के माध्यम से विभिन्न औद्योगिक और वाणिज्यिक अनुप्रयोगों के लिए इस विशाल संसाधन को विकसित करना है।

  • बांस मिशन मध्यप्रदेश में चलाई जा रही एक योजना है
  • बांस मिशन से किसानों को बांस की खेती के लिए प्रेरित किया जा रहा है

बांस मिशन के सीईओ ने बताया कि बांस मिशन योजना में किसानों द्वारा निजी जमीन पर ही बांस लगाया जाता है। इस मिशन के अंतर्गत किसानों को 120 रुपए प्रति पौधे की सब्सिडी भी दी जा रही है, बता दे बांस की खेती का कुल खर्चा लगभग 240 रुपए प्रति पैदा होता है।

बांस (Bamboo) की 136 प्रजातियां है इनमें से 10 12 काफी प्रचलित है देशभर में किसान भाई अपनी सुविधा के अनुसार को चयन कर सकते हैं कि कौन से प्रजाति का खेती वह करना चाहते है। 

और भी जाने:

Leave a Comment