PM KUSUM YOJANA: सोलर पम्प पर 90 प्रतिशत तक सब्सिडी दे रही है सरकार, ऐसे करें आवेदन

PM KUSUM YOJANA: देश के प्रधानमंत्री ने किसान ऊर्जा सुरक्षा उत्थान महाअभियान योजना का शुभारम्भ किया है जो कि कुसुम योजना (KUSUM) के नाम से ज्यादा प्रचलित है। 

PM KUSUM YOJANA

pm kusum yojana

इस योजना के तहत किसान भइयों को सोलर पम्प दिया जाना है। इस योजना का लाभ खासकर उन किसानों को होगा जो बंज़र भूमि क्षेत्र से आते हैं या जिनके यह वर्षा कम होती है और जो क्षेत्र सूखा प्रभावित है। वर्षा न होने के कारण फसल नष्ट हो जाती है और किसान भाई के पास इतना पैसा भी नही होता कि वो डीजल-पेट्रोल से चलने वाली मशीन से खेत की सिंचाई कर सकें। तो इन सब समस्याओं से निजात दिलाने के लिए सरकार ने सोलर पम्प (solar pump) देने का फैसला किया है। इसमें न तो डीज़ल लगता है और न ही पेट्रोल लगता है सिर्फ सूरज की रोशनी से ही इसका काम हो जाता है और थोड़ी बहुत बिजली की जरूरत होती है जिसका खर्च भी सरकार ही देगी। 

कब तक कर सकते है आवेदन (Till when can you apply)?

इसके तहत राजस्थान सरकार ने इस योजना के आवेदन की आखिरी तारीख को बढ़ाते हुए 31 मार्च 2022 तक कर दिया है। आवेदन करने के लिए सबसे पहले rajasthan renewable energy की official website पर जाए। online registration के ऑप्शन पर क्लिक करें। अब जो फॉर्म ओपन होगा उसमे अपनी सभी जानकारी दर्ज करें। इसके बाद जरूरी दस्तावेज जैसे कि आधार कार्ड और बैंक पासबुक upload करें। अब send पर क्लिक करदें। अब सौर ऊर्जा पम्प के लागत का 10% आपसे लेने के लिए विभाग के अधिकारियों द्वारा समीक्षा की जाएगी। अब अगर सब कुछ संहि रहता है तो 90 से 120 दिन के भीतर Solar pump लगा दिया जाता है। 

क्या-क्या लगेंगे दस्तावेज (What are the essential document)?

आवेदन करते समय निम्न दस्तावेज अपने पास रखें: 

  • आधार कार्ड
  • मोबाइल नंबर
  • आय प्रमाण पत्र
  • बैंक पासबुक
  • पासपोर्ट साइज फ़ोटो
  • निवास प्रमाण पत्र

इस योजना के लाभार्थी (Beneficiaries of this scheme)?

कुसुम योजना का लाभ किसानों को तो मिलेगा ही साथ ही साथ सहकारी समितियों, किसानों के समूह, पंचायत, किसान उत्पादक संगठन आदि लोगों को भी मिल सकता है। 

कुसुम योजना का लक्ष्य (Aim of this scheme)

सरकार ने 2022 तक 3 करोड़ सोलर पम्प स्थापित करने हैं। इस योजना के तहत जो सोलर पम्प आपको मिलेगा उसका लागत का 10% आपको देना होगा बाकी का खर्च इसके तहत आवेदक को Solar Pump के लिए प्रति मेगावाट 5000₹ GST के साथ पंजीकरण शुल्क का भुगतान करना होगा। हाल ही में 13 नवंबर को इस योजना का क्षेत्र बढ़ा दिया गया है। अब किसान अपना बिजली संयंत्र बंजर, परती, दलदल भूमि पर सौर ऊर्जा संयंत्र लगा सकते हैं। 

Leave a Comment