Carrot Farming Business idea: इस तरह करिए गाजर की बुबाई, लगेगा सिर्फ 25 फीसदी बीज

Carrot Farming Business idea: इस तरह करिए गाजर की बुबाई, लगेगा सिर्फ 25 फीसदी बीज

Carrot Farming Business Idea: अगर आप गाजर के बिजनेस का सोच रहे हैं तो आप सही जगह पर आए हैं, हम आपको यहां गाजर के बिजनेस से जुड़ी सारी जानकारी देंगे, गाजर की बिजनेस (Carrot Business) आप अगर शुरू करना चाहते हैं तो यह सही समय है इस बिजनेस को शुरू करने का।

बहुत से लोग इस तथ्य को नहीं जानते होंगे कि आलू के बाद गाजर दुनिया भर में दूसरी पसंदीदा सब्जी (Favorite Veggie) है। गाजर की डिमांड भारत में भी काफी ज्यादा है और लोग गाजर पोस्टिक सब्जी अक्सर खाते हैं। गाजर की बिजनेस से आपकी वार्षिक इनकम (Profitable business) काफी ज्यादा बढ़ जाएगी। तो आइए जानते हैं इस बिजनेस के बारे में विस्तार से।

Carrot Farming Business Idea

Carrot Farming Business idea

गाजर के बिजनेस में फसल बोने के 100 से 110 दिन में गाजर पूरी तरीके से तैयार हो जाएगी। भारतीय कृषि विभाग की जानकारी के अनुसार अगर आपने पारंपरिक तरीके से बुवाई की है तो प्रति एकड़ 4.0 किलोग्राम तक बीज लगेगा।

वहीं अगर आप बाजार में बिकने वाली मशीन का इस्तेमाल करते है तो इसमें आपको केबल 1 किलोग्राम बीज लगेगा। इस तरह आपकी बीज की बचत और उत्पाद भी अच्छी होती है।

कृषि विभाग के मुताबिक आप गाजर की बुवाई मेड़ों पर भी कर सकते हैं। गाजर की सब्जी उगाने से पहले 2 ग्राम कैप्टन को आप जरूर छिड़क दें। खेती शुरू करने से पहले आप एक किलोग्राम प्रति किलो बीज की दर से उपचारित करें। खेती के समय आप देसी खाद पोटाश एवं फास्फोरस का प्रयोग जरूर करें। 

गाजर और गाजर परिवार फसल बीज के बारे में

  • पार्सनिप परिवार के एक सदस्य अजमोद को बढ़ने में 14 से 21 दिन लगते हैं, इसलिए आपको उस बिंदु से आगे बढ़ने से रोकने के लिए तीन सप्ताह तक बीज की क्यारी को लगातार नम रखना चाहिए।
  • उनके कड़े बीज कोट के कारण, गाजर सहित गाजर परिवार की फसलें धीरे-धीरे अंकुरित होंगी।
  • बीजों के अंकुरण और बढ़ने के लिए बीज के आवरण को नमी से प्रवेश करना चाहिए।
  • गर्मी और ठंड दोनों ही बीज की नमी को तेजी से बढ़ा सकते हैं।
  • यह लेख आपको अच्छी मिट्टी, अंकुरण के समय और गाजर के रोपण, कटाई और देखभाल की बुनियादी बातों के बारे में जानने के लिए आवश्यक सब कुछ सिखाएगा।

गाजर के बीज की कुछ महत्वपूर्ण किस्में

  • PusaKesar (Local red X nontess)
  • Early nontess
  • Chanteny
  • PUSA yamadagni ( I C 9981 X Non tess)

गाजर बीज अंकुरण प्रक्रिया – Guide

चूंकि वे बढ़ते मौसम के ठंडे भागों के दौरान ढीली, रेतीली मिट्टी में बोए जाते हैं, गाजर उगाना आसान होता है। गाजर के प्रकार और विकास की स्थितियों के आधार पर जहां इसे उगाया जाता है, गाजर को परिपक्वता तक पहुंचने में 2 से 4 महीने लग सकते हैं।

मिट्टी के कम तापमान से गाजर की परिपक्वता प्रक्रिया धीमी हो जाती है। बीजों को परिपक्व होना चाहिए क्योंकि अंकुरित होने से पहले वे अक्सर अपरिपक्व होते हैं। बगीचे से गाजर पूरी तरह से सुगंधित, लंबे समय तक चलने वाली जड़ वाली फसलें हैं जिनकी खेती विभिन्न जलवायु में की जा सकती है। यदि वे जल्दी के बजाय गर्मियों में बाद में पकते हैं, तो उनका स्वाद बेहतर होगा।

खेती के लिए उचित मिट्टी (Suitable soil for cultivation)

अगर आप एक खेत शुरू करना चाहते हैं और सोच रहे हैं कि कौन सा फसल या सब्जी उगानी है तो शायद आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प होगा गाजर की सब्जी उगाना, बता दे खेती करने से पहले आप यह सुनिश्चित करले की मिट्टी में नमी हों। आपकी जानकारी के लिए बता दे गाजर की खेती दोमट भूमि में अच्छी होती है।

खेती शुरू करने से पहले तीन चार बार देसी हल और बिक्ट्री हल से जोतना चाहिए, ताकि मिट्टी भुरभुरी हो। बता दे 5-6 किलोग्राम बीज प्रति हेक्टर आवश्यक होता है खेती के लिए। 

गाजर के बीज को अंकुरित करने के लिए अच्छी मिट्टी का महत्व

अपने बगीचे की मिट्टी को कैसे तैयार करें और गाजर के बीज के अंकुरण के लिए मिट्टी कैसे तैयार करें, इस बारे में यहां कुछ निर्देश दिए गए हैं:

  • गाजर के उत्पादन के लिए मिट्टी को ठीक से तैयार करना महत्वपूर्ण है। यदि गाजर की जड़ें आसानी से बिना रुके विकसित नहीं हो सकती हैं, तो जो फसलें रुकी हुई और अनियमित होती हैं, उनका परिणाम हो सकता है।
  • सुनिश्चित करें कि मिट्टी में कोई चट्टानें, पत्थर या मिट्टी के गुच्छे न हों क्योंकि वे 12 इंच नीचे खोदकर आपकी गाजर के विकास को रोक सकते हैं।
  • मिट्टी में नाइट्रोजन युक्त संशोधनों को जोड़ने से बचें; इसके बजाय, इस्तेमाल किए गए कॉफी ग्राउंड में काम करें।
  • यदि जमीन भारी मिट्टी या बहुत पथरीली है (मिट्टी या गाद नहीं) तो गाजर को कम से कम 12 इंच फूली, रेतीली या दोमट मिट्टी के साथ एक उठाए हुए बिस्तर में लगाया जाना चाहिए।
  • अंत में, आदर्श आकार में होने का अनुमान न लगाएं।
  • अंत में, जबकि आपके गाजर सुपरमार्केट में पाए जाने वाले पूरी तरह से आकार के नहीं होंगे, फिर भी वे बेहतर स्वाद लेंगे।

खेती के लिए सही जलवायु (Perfect Climate for Farming carrot)

गाजर के बीज 7.5 से 28 डिग्री सेल्सियस तापमान पर सफलतापूर्वक विकसित होती है, गाजर की जड़ों की वृद्धि और उनका रंग तापमान से बहुत प्रभावित होता है। बता दे गाजर एक ठंडी जलवायु वाली फसल है।

15 से लेकर 20 डिग्री सेल्सियस पर गाजर के जोड़ों का आकार छोटा होता है, लेकिन ड्राइंग सबसे अच्छा होता है। आपको बता दें गाजर को विभिन्न प्रकार की भूमियों में उगाया जा सकता है, लेकिन अच्छी उपज के लिए उचित जल निकास वाली भुरभुरी दोमट भूमि लाभदायक होती है। 

पूसा रुधिर के लाभ 

पूसा रुधिर उपभोक्ता (Consumers) और किसानों (Farmers) दोनों के लिए फायदेमंद होता है, इसकी औसत उपज 30 टन प्रति हेक्टर बताई जाती है। जिसमें पत्तियां चोटी और जड़ लंबी होती है।

बता पूसा रुधिर कैंसर के लिए भी एक पोस्टिक आहार बताया जाता है। परीक्षण में यह पाया गया है कि इनमें कैरोटीन 7.41 मिलीग्राम और फिनोल 45.15 मिलीग्राम प्रति 100 ग्राम है। इनका प्राथमिक गुण इनका एंटी ऑक्सीडेंट (Antioxidant) है। 

पूसा केसर 

गाजर की के किस्म लाल रंग की आती उत्तम होती है। यह बेहद आकर्षक होती है। बता दे यह फसल 90 से 110 दिन में तैयार हो जाती है, और इसकी पैदावार 300-350 क्विंटल प्रति हेक्टेयर हो जाती है।  

खेती के लिए सिंचाई का समय और खाद 

गाजर (Carrot) की बुवाई के बाद सबसे पहले नाले में सिंचाई करनी चाहिए, ताकि मेड़ों में नमी बना रहे। उसके बाद आपको कुछ दिन बाद फिर सिचाई करनी चाहिए। गर्मियों के मौसम में आपको चार-पांच दिनों के अंतराल सिंचाई करनी चाहिए। 

गाजर के खेत में फसल की लागत

अधिकांश कटाई बुवाई के 85 से 90 दिनों के बाद पूरी हो जाती है। कटाई और कंटेनरों में डालने के लिए, हमें लगभग 6 श्रमिकों की आवश्यकता होती है। गाजर को मिट्टी से आसानी से उखाड़ने के लिए एक सिंचाई फसल के दिनों से पहले दी जाती है।

कटाई, श्रम, पैकिंग और पैकेजिंग में करीब 5000 रुपये का खर्च आता है। ऐसे समय में जब गाजर का विक्रय मूल्य अधिक हो, गाजर को पास के बाजार में बेचने के लिए किसान कोल्ड स्टोरेज की सुविधा का उपयोग करके कटे हुए माल को तीन महीने तक रख सकता है।

और भी जाने:

FAQs – Carrot Farming Business Idea

गाजर की फसल किस महीने बोई जाती है?

देशी (देसी) प्रकार की गाजर के लिए, रोपण की इष्टतम अवधि अगस्त या सितंबर में होती है, जबकि यूरोपीय किस्मों को अक्टूबर या नवंबर में लगाया जाना चाहिए। पौधे से पौधे की दूरी 7.5 सेमी और पंक्ति से पंक्ति की दूरी 45 सेमी का प्रयोग करें।

गाजर की कटाई कैसे की जाती है?

एक एकड़ में गाजर उगाने से किसान 7 से 8 टन या 7000 से 8000 किलोग्राम की फसल का अनुमान लगा सकता है। गाजर के किसान या उत्पादक फसल के 3 से 4 दिन बाद उन्हें तुरंत पास के उपज बाजार में बिक्री के लिए पहुंचा सकते हैं।

एक गाजर उगाने की कीमत क्या है?

ताजा बाजार गाजर के उत्पादन की लागत $4,200 से $5,000 प्रति एकड़ तक होती है, जिसमें कटाई की कीमतें भी शामिल हैं; प्रसंस्कृत गाजर के उत्पादन की लागत $ 1,500 से $ 2,000 प्रति एकड़ तक होती है।

खेतों में गाजर कैसे उगाई जाती है?

गाजर ठंडे मौसम की फसल है जो 15 से 20 डिग्री सेल्सियस के बीच बढ़ते तापमान से लाभान्वित होती है। फसल के लिए गहरी, ढीली, दोमट मिट्टी की आवश्यकता होती है। अधिक उत्पादन के लिए 6.0 और 7.0 के बीच पीएच आवश्यक है। 1500 मीटर से अधिक की ऊंचाई पर, विश्वसनीय सिंचाई के साथ पूरे वर्ष भर गाजर की खेती की जा सकती है।

Leave a Comment