Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana: फसल के लिए बीमा करवा रही है सरकार, ऐसे करें आवेदन

Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana: केंद्र सरकार भारत के किसान भाइयों के लिए आए दिन योजनाएं निकलती रहती है, आज हम ऐसे ही एक योजना के बारे में आपको बताएंगे जो किसान के लिए फायदेमंद है। जैसा कि आपको पता है भारत एक कृषि प्रधान देश है और कृषि आय वृद्धि और किसी कल्याण को लेकर सरकार काफी कुछ कर रही है इन दिनों, आज हम जिस योजना के बारे में आपको बताने जा रहे हैं उसका नाम प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना है जो सीधे तौर पर किसानों को ध्यान में रखकर बनाया गया है, तो आइए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से।

Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana

आपको बता दें केंद्र सरकार ने साल 2016 के 13 जनवरी को फसल बीमा योजना की शुरुआत की है। किसानों की हित के लिए यह योजना शुरू की गई थी, इस योजना से किसान प्राकृतिक आपदा के वजह से होने वाली नुकसान का भरपाई कर पाएंगे। इस योजना के तहत किसानों को न्यूनतम राशि देना होता है।

इस योजना के तहत प्रीमियम की राशि है बिल्कुल कम, इस योजना का लाभ उठाने वाले किसानों को खरीफ की फसल के लिए 2%, रबी की फसलों के लिए 1.5% तथा वाणिज्यिक और बागवानी फसलों के लिए 5% प्रीमियम देना होता है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें इस योजना का लाभ भारत के किसी भी हिस्से में रहने वाले किसान उठा सकते हैं। इस योजना में भाग लेने के लिए आपको ऑनलाइन या फिर ऑफलाइन आवेदन करना होता है। अगर आप ऑनलाइन अप्लाई करना चाहते हैं तो आप भारत सरकार की आधिकारिक वेबसाइट Click here पर जाकर भी कर सकते हैं।

इस योजना के तहत कैसे मिलता है लाभ

  • खेती के 10 दिन के अंदर किसान को PMFBY का एप्लीकेशन भरना होगा
  • इसमें बीमा की रकम का लाभ तभी मिल पाएगा जब आप की फसल प्राकृतिक आपदा के कारण खराब हो गए हो।
  • प्राकृतिक आपदा या फिर कीटो से हुए नुकसान की भरपाई होती है।
  • खड़ी फसलों को स्थानीय आपदा, ओलावृष्टि, भूस्खलन, बादल फटने या फिर बिजली से हुए नुकसान की भरपाई होती है।
  • बीमा कंपनी किसानों की फसलों का प्राकृतिक आपदा से होने वाले नुकसान का आकलन कर कर ही भरपाई करेगी।
  • इस योजना का लाभ मौसमी स्थितियों के कारण फसल की बुवाई ना कर पाने पर भी मिलेगा।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में कैसे तय होती है प्रीमियम की राशि

मिली जानकारी के मुताबिक इस योजना के प्रीमियम की रकम जिले और राज्यों के हिसाब से अलग-अलग होती है। इस बीमा योजना की प्रीमियम को तय करने के लिए कमेटी बिटाई जाती है जिसका हिस्सा कृषि अधिकारी, मौसम विभाग, जिला अधिकारी के प्रतिनिधि और बीमा कंपनियों के अधिकारी भी होते हैं। बीमा योजना में प्रीमियम की रकम जिला तकनीकी की रिपोर्ट के आधार पर तय होती है।

घर बैठे कैसे जाने प्रीमियम की रकम

प्रीमियम की रकम जानने के लिए आपको सबसे पहले कृषि विभाग के आधिकारिक वेबसाइट Click here पर जाना होगा। वेबसाइट में जाने के बाद आपको एक विकल्प दिखेगा जहां लिखा होगा इंश्योरेंस कैलकुलेटर, इसमें क्लिक करके आप अपनी डिटेल्स भरेंगे जैसे कि सीजन, साल, जिला इन सब की जानकारी भरकर क्लिक करने पर आपको आपके क्लेम में मिलने वाली रकम का पता चल जाएगा।

और भी जाने:

Leave a Comment